शोर / अजेय


शोर / अजेय
मैंने कभी शोर नहीं चाहा।
हमेशा चुप रहा मैं
फिर भी लगातार चीखा है
एक जानवर
मेरे भीतर
और न सुन पाया तुम्हारी कोई पुकार ।

1992


Leave a Reply

Your email address will not be published.