न मक़ामात न तरतीब-ए-ज़मानी अपनी / अब्दुल अहद ‘साज़’

न मक़ामात न तरतीब-ए-ज़मानी अपनी / अब्दुल अहद ‘साज़’
न मक़ामात न तरतीब-ए-ज़मानी अपनी
इत्तिफ़ाक़ात पे मब्नी है कहानी अपनी

जिस्म सी जाती है तह-ए-हर्फ़ किसी कर्ब की मौज
थम के रह जाती है लफ़्ज़ों की रवानी अपनी

फैल जाती थी समाअत की ज़मीनों में नमी
थी कभी तर-सुख़नी आब-रसानी अपनी

लाख तुम मुझ को दबाओ मैं उभर आऊँगा
सतह हमवार किए रहता है पानी अपनी

माजरा रूह की वहशत का निजी है ऐ ‘साज़’
आगे रूदाद नहीं हम को सुनानी अपनी

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *