अब वो गलियाँ वो मकाँ याद नहीं / अहमद मुश्ताक़


अब वो गलियाँ वो मकाँ याद नहीं / अहमद मुश्ताक़
अब वो गलियाँ वो मकाँ याद नहीं
कौन रहता था कहाँ याद नहीं

जलवा-ए-हुस्न-ए-अज़ल थे वो दयार
जिन के अब नाम ओ निशाँ याद नहीं

कोई उजला सा भला सा घर था
किस को देखा था वहाँ याद नहीं

याद है ज़ीन-ए-पेचाँ उस का
दर-ओ-दीवार-ए-मकाँ याद नहीं

याद है ज़मज़मा-ए-साज़-ए-बहार
शोर-ए-आवाज़-ए-ख़िज़ाँ याद नहीं


Leave a Reply

Your email address will not be published.