जो रंजिशें थी जो दिल में गुबार था ना गया / फ़राज़


जो रंजिशें थी जो दिल में गुबार था ना गया / फ़राज़
जो रंजिशें थी जो दिल में गुबार था ना गया,
कि अब की बार गले मिल के भी गिला ना गया,

अब उस के वादा-ए-फ़र्दान को भी तरसते हैं,
कल उसकी बात पे क्यूँ ऐतबार आ ना गया,

अब उसके हिज्र में रोऐं या वस्ल में खुश हों,
वो दोस्त हो भी तो समझो कि दोस्ताना गया,

निगाहे-यार का क्या है हुई हुई ना हुई,
ये दिल का दर्द है प्यारे गया गया ना गया,

सभी को जान थी प्यारी सभी थे लब-बस्ता,
बस इक ‘फ़राज़’ था ज़ालिम से चुप रहा ना गया,


Leave a Reply

Your email address will not be published.