अब सोचिये तो दाम-ए-तमन्ना में आ गए / अहमद अज़ीम


अब सोचिये तो दाम-ए-तमन्ना में आ गए / अहमद अज़ीम
अब सोचिये तो दाम-ए-तमन्ना में आ गए
दीवार ओ दर को छोड़ के सहरा में आ गए

तस्वीर थे जो अव्वलीं सर-शारियों में लोग
वो ज़ख़्म बन के चश्म-ए-तमन्ना में आ गए

उन से भी पूछिये कभी अपनी ज़मीं का कर्ब
जो साहिलों को छोड़ के दरिया में आ गए

वहशत ने यूँ तो ख़ूब दिया हर क़दम पे साथ
लेकिन तेरे फ़रेब-ए-दिल-आरा में आ गए

इस अंजुमन में अंजुम ओ ज़हरा भी थे मगर
हम शब-गुज़ीदा सिहर-ए-सुरय्या में आ गए.


Leave a Reply

Your email address will not be published.