बस्ता मुझसे भारी है / अश्वघोष


बस्ता मुझसे भारी है / अश्वघोष
यह कैसी लाचारी है,
बस्ता मुझसे भारी है!

कंधा रोज भड़कता है,
जाने क्या-क्या बकता है,
लाइलाज बीमारी है,
बस्ता मुझसे भारी है!

जब भी मैं पढ़ने जाता,
जगह-जगह ठोकर खाता,
बस्ता क्या अलमारी है,
बस्ता मुझसे भारी है!

कान फटे सुनते सहते,
मुझे देखकर सब कहते,
बालक नहीं, मदारी है,
बस्ता मुझसे भारी है!


Leave a Reply

Your email address will not be published.