सिर्फ़ शब्दों से नहीं / अशोक वाजपेयी


सिर्फ़ शब्दों से नहीं / अशोक वाजपेयी
सिर्फ़ शब्दों से नहीं,
बिना छुए उसे छूकर,
बिना चूमे उसे चूमकर
बिना घेरे उसे बाँहों में घेरकर,
दूर से उसे पँखुरी-पँखुरी खोलते हुए
बिना देखे उसे दृश्य करते हुए
मैंने उससे कहा।


Leave a Reply

Your email address will not be published.