चलो / अशोक तिवारी


चलो / अशोक तिवारी
चलो …..
चलो कि चलना ही जीवन है
चलो कि चलना ही हासिल है
ज़िन्दगी मैं जुड़ते जा रहे पलों का
चलो कि चलना है मंज़िल पर पहुँचने की
एक हसीन हसरत
चलो कि चलना इस बात का है
पुख्ता सबूत
कि ठहरे नहीं हो तुम

चलो कि चलना लक्षण है उस संस्कृति का
ठहर नहीं सकती जो
उस तहज़ीब का
जो दी जाती है एक बच्चे को
बग़ैर किसी ऊँच-नीच के
चलना है बहती हुई हवा को
अपने होने का अहसास कराना

चलो कि चलना खोलना है
बंद होते जा रहे खिड़की के सभी झरोखे
चलना है उन्हीं झरोखों से झाँकती रौशनी को अपने अंदर भरना

चलो कि चलना
बनना है नदी के उस पानी कि तरह
बहता जाता है जो निश्छलता के साथ
अपने उद्दाम वेग से
पहाड़ों के बीच

चलो कि चलना इस बात की है निशानी
कि हारे नहीं हो तुम
उठ सकते हो बार-बार गिरकर भी

चलो कि चलना जूझना है
उलटी बह रही हवाओं से
और मोड़ना है अपनी दिशा में
अपनी बाजुओं की ताक़त के बल पर


Leave a Reply

Your email address will not be published.