इत्ते जादा मत इतराओ नेताजी / अशोक अंजुम


इत्ते जादा मत इतराओ नेताजी / अशोक अंजुम
इत्ते जादा मत इतराओ नेताजी
सोच-समझ कैं गाल बजाओ नेताजी

धूल नायं जो भगत सिंग के पाँयन की
बाकूं भगत सिंग बतलाओ नेताजी

राजनीत के कीचड़ में तुम लिपट रए
रगड़-रगड़ कैं जाय छुड़ाओ नेताजी

तुम जे सोचौ सब बकबास सुनिंगे हम
भौत है गयौ अब रुकि जाओ नेताजी

नई -नई छोरिन के चक्कर में फसि कैं
मत पलीत मट्टी करवाओ नेताजी


Leave a Reply

Your email address will not be published.