अँगूठी / अविनाश मिश्र


अँगूठी / अविनाश मिश्र
इसका मुहावरा ही और है
यह सबसे पहले आती है
शेष सब इसके बाद —
एक भार की तरह
आत्म-प्रचार की तरह
इसमें उदारता भी स्वाभाविक होती है और उपेक्षा भी
यह जब जी चाहे उतारकर दी जा सकती है
उधार की तरह


Leave a Reply

Your email address will not be published.