इधर तेरी उधर तेरी, बताओ है किधर मेरी / अवधेश्वर प्रसाद सिंह


इधर तेरी उधर तेरी, बताओ है किधर मेरी / अवधेश्वर प्रसाद सिंह
इधर तेरी उधर तेरी, बताओ है किधर मेरी।
बराबर है कहीं से लो, बचा जो है उधर मेरी।।

कहावत यह पुरानी है, नई कुछ बात बतलाओ।
कभी तकरार मत करना, जवानी की उमर मेरी।।

जवानी तो विवादित है कभी चढ़ती कभी ढलती।
करो अभिमान मत इतना अभी मजबूत कमर मेरी।

अभी है वक्त बनने की बिगड़ने की इसे जानो।
समझ लो देश मेरा है जहाँ की हर शहर मेरी।।

जहाँ चाहो वहाँ जाओ मगर एक बात मत भूलो।
हिफाजत देश की करना ग़ज़ल की है बहर मेरी।।


Leave a Reply

Your email address will not be published.