मेरी नवा-ए-शौक़ से शोर हरीम-ए-ज़ात में / इक़बाल


मेरी नवा-ए-शौक़ से शोर हरीम-ए-ज़ात में / इक़बाल
मेरी नवा-ए-शौक़ से शोर हरीम-ए-ज़ात में
ग़ुलग़ुला-हा-ए-अल-अमाँ बुत-कदा-ए-सिफ़ात में

हूर ओ फ़रिश्ता हैं असीर मेरे तख़य्युलात में
मेरी निगाह से ख़लल तेरी तजल्लियात में

गरचे है मेरी जुस्तुजू दैर ओ हरम की नक़्श-बंद
मेरी फ़ुग़ाँ से रुस्तख़ेज़ काबा ओ सोमनात में

गाह मेरी निगाह-ए-तेज़ चीर गई दिल-ए-वजूद
गाह उलझ के रह गई मेरे तवह्हुमात में

तू ने ये क्या ग़ज़ब किया मुझ को भी फ़ाश कर दिया
मैं ही तो एक राज़ था सीना-ए-काएनात में


Leave a Reply

Your email address will not be published.