ज़मिस्तानी हवा में गरचे थी शमशीर की तेज़ी / इक़बाल


ज़मिस्तानी हवा में गरचे थी शमशीर की तेज़ी / इक़बाल
ज़मिस्तानी हवा में गरचे थी शमशीर की तेज़ी
न छूटे मुझ से लंदन में भी आदाब-ए-सहर-ख़ेज़ी

कहीं सरमाया-ए-महफ़िल थी मेरी गर्म-गुफ़्तारी
कहीं सब को परेशाँ कर गई मेरी कम-आमेज़ी

ज़माम-ए-कार अगर मज़दूर के हाथों में हो फिर क्या
तरीक़-ए-कोहकन में भी वही हीले हैं परवेज़ी

जलाल-ए-पादशाही हो के जमहूरी तमाशा हो
जुदा हो दीं सियासत से तो रह जाती है चंगेज़ी

सवाद-ए-रौमत-उल-कुबरा में दिल्ली याद आती है
वही इबरत वही अज़मत वही शान-ए-दिल-आवेज़ी


Leave a Reply

Your email address will not be published.