फुटकर शेर / अल्ताफ़ हुसैन हाली


फुटकर शेर / अल्ताफ़ हुसैन हाली
1.आगे बढ़े न किस्सा-ए-इश्क़-ए-बुतां से हम,
  सब कुछ कहा मगर न खुले राजदां से हम।

2.बे-क़रारी थी सब उम्मीद-ए-मुलाक़ात के साथ,
  अब वो अगली सी दराज़ी शब-ए-हिजरां में कहां।

3.फरिश्ते से बढ़कर है इंसान बनना,
  मगर इसमें लगती है मेहनत ज़ियादा।

4.इश्क़ सुनते हैं जिसे हम वो यही है शायद,
  ख़ुद-ब-ख़ुद दिल में है इक शख़्स समाया जाता।

5.जानवर आदमी फरिश्ते ख़ुदा,
  आदमी की हैं सैंकड़ों किस्में।


Leave a Reply

Your email address will not be published.