राह-ए-उल्फ़त में मिले ऐसे भी दीवाने / ज़ैदी


राह-ए-उल्फ़त में मिले ऐसे भी दीवाने / ज़ैदी
राह-ए-उल्फ़त में मिले ऐसे भी दीवाने मुझे
जो मआल-ए-दोस्ती आए थे समझाने मुझे

इश्क़ की हलकी सी पहली आँच ही में जल बुझे
क्या भला दर्द-ए-वफ़ा देंगे ये परवाने मुझे

ये तो कहिए बे-ख़ुदी से मिल गई कुछ आगही
वरना धोका दे दिया था चश्म-ए-बीना ने मुझे

ना-मुरादी लूट ही लेती मता-ए-आरज़ू
इक सहारा दे दिया एहसास-ए-फ़र्दा ने मुझे

किस से कहता दिल की बातें किस से सुनता उन का राज़
बज़्म में तो सब नज़र आते हैं बेगाने मुझे

तौबा तौबा ना-उम्मीदी की ख़याल-आराइयाँ
देखते हों जैसे ख़ुद ललचा के पैमाने मुझे

मेरा इक अदना सा परतव है निज़ाम-ए-काएनात
क्या समझ रक्खा है इस महदूद दुनिया ने मुझे

जब कभी देखा है ऐ ‘ज़ैदी’ निगाह-ए-ग़ौर से
हर हक़ीक़त में मिले हैं चंद अफ़साने मुझे


Leave a Reply

Your email address will not be published.