इक आह-ए-ज़ेर-ए-लब के गुनह-गार / ज़ैदी


इक आह-ए-ज़ेर-ए-लब के गुनह-गार / ज़ैदी
इक आह-ए-ज़ेर-ए-लब के गुनह-गार हो गए
अब हम भी दाख़िल-ए-सफ़-ए-अग़्यार हो गए

जिस दर्द को समझते थे हम उन का फ़ैज़-ए-ख़ास
उस दर्द के भी लाख ख़रीदार हो गए

जिन हौसलों से मेरा जुनूँ मुतमइन न था
वो हौसले ज़माने के मेयार हो गए

साक़ी के इक इशारे ने क्या सेहर कर दिया
हम भी शिकार-ए-अनदक-ओ-बिस्यार हो गए

अब उन लबों में शहद ओ शकर घुल गए तो क्या
जब हम हलक़-ए-तल्ख़ी-ए-गुफ़्तार हो गए

हर वादा जैसे हर्फ़-ए-ग़लत था सराब था
हम तो निसार-ए-जुरअत-ए-इनकार हो गए

तेरी नज़र पयाम-ए-यक़ीं दे गई मगर
कुछ ताज़ा वसवसे भी तो बेदार हो गए

इस मय-कदे में उछली है दस्तार बारहा
वाइज़ यहाँ कहाँ से नुमूदार हो गए

सर-सब्ज़ पत्तियों का लहू चूस चूस कर
कितने ही फूल रौनक़-ए-गुल-ज़ार हो गए

‘ज़ैदी’ ने ताज़ा शेर सुनाए बा-रंग-ए-ख़ास
हम भी फ़िदा-ए-शोख़ी-ए-इंकार हो गए


Leave a Reply

Your email address will not be published.