ज़िन्‍दा इंसान हूँ मैं / अरुणा राय


ज़िन्‍दा इंसान हूँ मैं / अरुणा राय
ज़िन्‍दा इंसान हूँ मैं
 
सोहबत
चाहिए तुम्‍हारी
मुकम्‍मल
 
लाश नहीं हूँ
कि
शब्‍दों के फूल
 
चढ़ाते
चली जाओ…।


Leave a Reply

Your email address will not be published.