एक अकेले से / अरुणा राय


एक अकेले से / अरुणा राय
चलते – चलते
हाथ बढ़ाए हमने
तो वो उलझे
और छूट गए
और छोड़ गए उलझन

अब
एक अकेले से
वह सुलझे कैसे …


Leave a Reply

Your email address will not be published.