पुरानी किताब / अरविन्द यादव


पुरानी किताब / अरविन्द यादव
आज एकाएक
दिमाग में कौंध गई
वही पुरानी किताब
जिसे देखकर और पढ़कर
चमक उठता था चेहरा

शायद मिलती थी आँखों को ठंडक
और दिल को सुकून
देखकर उसका आवरण

इतना ही नहीं
जब बैठता था अकेला
तो करता था
उसका ही चिंतन
उसका ही मनन

अचानक ही ख़्याल आया
वह तो पड़ी होगी अलमारी में

जब उठाकर देखा
धूल फांक रहे थे उसके पन्ने
आवरण को भी कर दिया था मैला
समय की धुंध ने
चूहों ने भी कुतर डाले थे जगह जगह
उसके वह सुन्दर पृष्ठ
जिन पर कभी गढ़ी रहती थीं मेरी आँखें

शायद अब वह नहीं रही थी
पढ़ने लायक
इसलिए रख दी चुपचाप
यह सोचकर
की बचाकर रखना है इसे
अब सिर्फ़ स्मृतियों में


Leave a Reply

Your email address will not be published.