फिर मैं रेत होता हूँ / अरविन्द पासवान


फिर मैं रेत होता हूँ / अरविन्द पासवान
सोख लेता हूँ लहर नफ़रतों के
फिर मैं रेत होता हूँ

अलक्षित, उपेक्षित किनारे पर
दुनिया से दूर होता हूँ


Leave a Reply

Your email address will not be published.