खिलें रंग अनेक / अरविन्द पासवान


खिलें रंग अनेक / अरविन्द पासवान
मैं
मैं ही रहा

तुम-तुम

वह
वह ही रहें

हम-हम

आओ
रहने का फ़ासला रहने दें यहीं
हो जाएँ मिलकर एक
खिले रंग अनेक


Leave a Reply

Your email address will not be published.