बिटिया / अरविन्द कुमार खेड़े


बिटिया / अरविन्द कुमार खेड़े
बिटिया मेरी,
सेतु है,
बाँधे रखती है,
किनारों को मजबूती से

मैंने जाना है,
बेटी का पिता बनकर,
किनारे निर्भर होते हैं,
सेतु की मजबूती पर ।


Leave a Reply

Your email address will not be published.