वो ख़ुद को मेरे अंदर ढूँढता है / अमीन अशरफ़


वो ख़ुद को मेरे अंदर ढूँढता है / अमीन अशरफ़
वो ख़ुद को मेरे अंदर ढूँढता है
वो सूरत है ये सूरत-आश्‍ना है

मगर ये अपने अपने दाएरे हैं
कोई नग़मा कोई नग़मा-सरा है

वो बादल है तो क्यूँ है जू-ए-कम-आब
समंदर है तो क्यूँ पर तौलता है

नदी के दरमियाँ सीधी सड़क है
नदी के पार कच्चा रास्ता है

वो ना-मौजूद हर शय में है मौजूद
ये आलम भी अजब हैरत-फ़ज़ा है

न जाने क्या सर-ए-नज्ज़ारा होगा
उसे देखा नहीं दिल मुब्तिला है


Leave a Reply

Your email address will not be published.