समराथल / अमित कल्ला


समराथल / अमित कल्ला
कितनी विस्तृत
ये रेत

अपनी देह के भार से भर जाती
पत्थर – पत्थर हो जाती
रेखाओं सी दौड़ने लगती है
कंकडों के किलों की
निगरानी कर
हज़ार – हज़ार स्पर्शों को चूम
अक्षांश – देशांतर जोड़ती

कहीं दूर
रात भी जगती है जहाँ
संभल संभलकर
सुनहरे त्रिकोण पर बैठ
फरागत से भरा
समराथल
बनाती

कितनी विस्तृत
ये रेत ।


Leave a Reply

Your email address will not be published.