ले उड़ी / अमित कल्ला


ले उड़ी / अमित कल्ला
कहकर
कुछ शब्द
कमल की पँखुरियों से
झरते
समय को
कथा-सी
ले उड़ी

नहीं
सम्भलता
उससे
समय
अब तो सिर्फ़
निशाना लगाती है

चिड़िया
शाख-दर-शाख
हरा जोबन चढ़ाती है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.