फूले जब वन पलाश / अमरनाथ श्रीवास्तव


फूले जब वन पलाश / अमरनाथ श्रीवास्तव
अनायास कोई धुन होंठों तक आई है
एक साथ कई गीत हवा उठा लाई है

कसक किसी कथा में खो गई सुई-सी है
खोजें तो मिले नहीं, लेटें तो चुभती है
साहस की सीढ़ी भी फिसल-फिसल जाती है
सांस के धरातल पर कितनी चिकनाई है

जी होता नयनों से किरणों के फूल चुनें
मिट्टी की मूरत भी हो तो कुछ कहें-सुनें
सन्नाटे में जब भी आहट-सी आई है
मुड़कर देखा तो अपनी ही परछाईं है

बाहर से जुड़ा, किन्तु भीतर खण्डित-उथला
फ़सलों के बीच चढ़ा मैं धोखे का पुतला
पतझर के दिन तो जैसे-तैसे बीत गए
फूले जब वन पलाश, आँखें भर आई हैं


Leave a Reply

Your email address will not be published.