एक शे’र / अमजद हैदराबादी


एक शे’र / अमजद हैदराबादी
किस शान से ‘मैं’ कहता हूँ, अल्लाह रे मैं।
समझा नहीं ‘मैं’ को आज तक वाह रे मैं॥


Leave a Reply

Your email address will not be published.