हर दिन हो महब्बत का हर रात महब्बत की / अभिषेक कुमार अम्बर


हर दिन हो महब्बत का हर रात महब्बत की / अभिषेक कुमार अम्बर
हर दिन हो महब्बत का हर रात महब्बत की,
ताउम्र ख़ुदाया हो बरसात महब्बत की।

नफ़रत के सिवा जिनको कुछ भी न नज़र आए,
क्या जान सकेंगे वो फिर बात महब्बत की।

जीने का सलीक़ा और अंदाज़ सिखाती है,
सौ जीत से बेहतर है इक मात महब्बत की।

ऐ इश्क़ के दुश्मन तुम कितनी भी करो कोशिश,
लेकिन न मिटा पाओगे ज़ात महब्बत की।

ख़ुशबख़्त हो तुम ‘अम्बर’ जो रोग लगा ऐसा,
हर शख़्स नहीं पाता सौग़ात महब्बत की।


Leave a Reply

Your email address will not be published.