परछाईं मछली की / अनूप अशेष


परछाईं मछली की / अनूप अशेष
घुटनों-घुटनों
नदी ताल हैं
ऊपर कई सवाल।।

परछाईं हिलती मछली की
मुँह-उजियारे पेड़,
घर के भीतर
बसे हादसे
दरवाज़ों को भेड़।

चलने वालों के
पाँवों में
फेंके अपने जाल।

गोरी-गोरी धूप सुबह की
पानी गई हिलोर,
काँदो-कीच
देह के ऊपर
आँखों-आँखों मोर।

श्वेत-पाँत अपनों की
तीरे आई
बगुला-चाल।


Leave a Reply

Your email address will not be published.