पिता / अनुपमा तिवाड़ी


पिता / अनुपमा तिवाड़ी
वो सुन्दर सुघड़ इमारत थी
जो दूर से ही अलग दिखाई देती थी
धीरे – धीरे वो इमारत खण्डहर होती गई
और फिर एक दिन नहीं बची
वो सुन्दर सुघड़ इमारत पिता थे
अब घूम रहे हैं हम
बिखरे – बिखरे से
कमरे – कमरे से.


Leave a Reply

Your email address will not be published.