फिर छाई है कारी बदरिया / अनीता सिंह


फिर छाई है कारी बदरिया / अनीता सिंह
फिर छाई है कारी बदरिया
ओ पावस! बिन बरसे ना जा।

दूर क्षितिज पर आँख गड़ाये
फिर से बादल लौट न जाये
रह जाये न आस अधूरी
सोच-सोच हियरा घबराये।
चमक उठी घन बीच बिजुरिया
ओ पावस! बिन बरसे ना जा।

किरणें आई थीं मुस्काती
मौसम ने भेजी थी पाती
लाज निगोड़ी राह खड़ी थी
बोलो, फिर मैं कैसे आती
छलक उठी फिर नयन गगरिया
ओ पावस! बिन बरसे ना जा।

पनिहारिन की गगरी खाली
बगिया कैसे सींचे माली
अमराई में खाली झूले
अब तो आ जाओ री आली
राह निहारूँ चढ़े अटरिया
ओ पावस! बिन बरसे ना जा।


Leave a Reply

Your email address will not be published.