कशमकश / अनीता कपूर


कशमकश / अनीता कपूर
दिल और दिमाग
की कशमकश में
कभी दिल जीतता है
तो कभी दिमाग
पर पिसता सिर्फ दिल ही है
और दाँव पर लगती है देह
छिन्न-भिन्न होता है वक्त
बिखरती है जिंदगी
और हाथ से फिसल जाती है
एक और पतंग
और लटकी हुई उसकी डोर


Leave a Reply

Your email address will not be published.