अलगोजा / अनिल मिश्र


अलगोजा / अनिल मिश्र
एक बांसुरी से झरने निकलते हैं
दूसरी से नदियां
एक ने साधा समय है
एक ने नक्षत्र की गतियां

मरु की सांसों का चलते रहना
रोज का उधम
अँधेरी रात को काटते
सुबह तक
टांकना चांद तारे
घर की छतों पर
लय भरी ऋतुएं सजाना
पिचकारियों से निकले
कि जैसे रंग फूलों के
हो रहे जैसे मुलायम
झाड़ियों के कड़े काँटे
दिशाओं के बसन पर
छप गया है
सांस का पक्का इरादा

दर्द सा कुछ कढ़ रहा है
नशा धीरे चढ़ रहा है


Leave a Reply

Your email address will not be published.