मुलाक़ात / अनिल जनविजय


मुलाक़ात / अनिल जनविजय
वो मुझे देख
मुस्काई
बोली — आओ
पीढ़े पर बैठाकर मुझे
ले आई नमकपारे
वो खिली-खिली थी
हँसकर कहा — खाओ
मैंने कहा — नहीं,
भूख नहीं है, ना… रे..

पूछा उसने —
कैसी गुज़र रही है?
मैंने कहा —
वर्ष, मास बीते
दिन बीते
पल-छिन ये खारे
बीत गया सागर-सा जीवन
पहुँचा साँझ-सकारे।


Leave a Reply

Your email address will not be published.