अनमने दिन / अनिल जनविजय


अनमने दिन / अनिल जनविजय
दिन बीते
रीते-रीते
इन सूनी राहों पे

मिला न कोई राही
बना न कोई साथी
वन सूखे चाहों के

याद न कोई आता
न मन को कोई भाता
घेरे खाली हैं बाहों के

कलप रहा है तन
जैसे भू-अगन
दिन आए फिर कराहों के

(रचनाकाल : 2005)


Leave a Reply

Your email address will not be published.