चल दिए वो सभी राब्ता तोड़कर / अनिरुद्ध सिन्हा


चल दिए वो सभी राब्ता तोड़कर / अनिरुद्ध सिन्हा
चल दिए वो सभी राब्ता तोड़कर
हमने चाहा जिन्हें फासिला तोड़कर

उम्र भर के लिए हम तो सजदे में थे
क्या मिला आपको आइना तोड़कर

इक ज़रा देर को मुस्कुरा दीजिए
हम चले जाएंगे दायरा तोड़कर

हमको सस्ती जो शोहरत दिलाता रहा
रख दिया हमने वो झुनझुना तोड़कर

यूँ कभी आतेजाते रहो तो सही
क्या मिलेगा तुम्हें सिलसिला तोड़कर


Leave a Reply

Your email address will not be published.