रंग – 2 / अनिता मंडा


रंग – 2 / अनिता मंडा
बालकनी में खड़ी लड़की
थोड़ी सी देर को भूल आई है चारदीवारी
उड़ रही है बादलों के बीच छीपी
गा रही है इन्तज़ार वाले लोकगीत
बरस रही हैं यादों की बूंदें टप टप टप

गेंदे के फूल पर बैठी तितली के परों से
मिलान करती है इंद्रधनुष के रंगों का
डायरियों में पड़े अधूरे स्कैच बेरंग हैं
कितने रंगों की दरकार है उसके सपनों को

हाँ! कभी तो पूरा करेगी उनको
जो खदबदा रहे हैं मन की हांडी में
ग्रिल के बाहर हाथ पसार बारिश का पानी
हथेली में जमा करती है
आँखों पर डालती है

नहीं अब रोयेगी नहीं
अब नमक कम बचा है देह में

कूकर की सिटी न बजती तो
देर तक बैठ वह
बिजली के खम्भे पर बैठे
कबूतरों के जोड़े को निहारती

भीतर जाते जाते बड़बड़ाती है
उदासी सब पर नहीं फबती


Leave a Reply

Your email address will not be published.