टूट रहा करिहाँव / अनामिका सिंह ‘अना’


टूट रहा करिहाँव / अनामिका सिंह ‘अना’
गौरेया कट्टी कर बैठी,
करे न कागा काँव ।

साथ नदी के देखो पानी,
गया नयन का सूख ।
सुरसा सम है मुख फैलाए,
आज अर्थ की भूख ।।

बिरवे काट रही भौतिकता ,
धूप पी रही छाँव ।

पूत कमाऊ की सालों से,
बाट जुहारे गैल ।
ओसारे में भादों उतरा,
टपक रही खपरैल ।

लाठी देख बुढ़ापे का अब
टूट रहा करिहाँव ।

चौमासे में अनगिन करते,
क्षेत्र निरन्तर जाप ।
जहाँ जरूरत वहीं बरसना
सुन सागर की भाप ।

पिछले बरस बहाये तूने,
कितने गाँव गिराँव ।


Leave a Reply

Your email address will not be published.