बीमारी के दौरान / अदनान कफ़ील दरवेश


बीमारी के दौरान / अदनान कफ़ील दरवेश
तुम्हारी याद ने
इन दिनों
बिल्ली के करतब सीख लिए हैं

वो चली आती है
दबे पाँव हर रोज़
समय, काल औ मुण्डेरों को छकाती हुई
एकसाथ।
 
कितने-कितने दिन बीत गए
तुम्हें छुए,
तुमसे मिले हुए
मेरे रोएँ भी जानते हैं
तुम्हारा मुलायम स्पर्श
तुम्हारी गंध को मैं
नींद में भी पहचान सकता हूँ

आजकल मैं
धीरे-धीरे खाँसना सीख गया हूँ
वक़्त पे दवाएँ भी ले लेता हूँ
बेवजह बाहर भी नहीं निकलता
देखो तुम्हारे अनुरूप कितना ढल गया हूँ

कोई दिन तुम आ जाओ मुझसे मिलने
जीवन और मृत्यु के
संधिकाल में

आजकल मैं
नींद में भी
एक दरवाज़ा खोल के सोता हूँ !

(रचनाकाल: 2016)


Leave a Reply

Your email address will not be published.