मैं देख रहा हूँ / अज्ञेय


मैं देख रहा हूँ / अज्ञेय
मैं देख रहा हूँ
झरी फूल से पँखुरी
-मैं देख रहा हूँ अपने को ही झरते।

मैं चुप हूँ:
वह मेरे भीतर वसंत गाता है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.