नाता-रिश्ता-5 / अज्ञेय


नाता-रिश्ता-5 / अज्ञेय
उस राख का पाथेय लेकर मैं चलता हूँ
उस मौन की भाषा में मैं गाता हूँ :
उस अलक्षित, अपरिमेय निमिष में
मैं तुम्हारे पास जाता हूँ, पर
मैं, जो होने में ही अपने को छलता हूँ–
यों अपने अनस्तित्व में तुम्हें पाता हूँ।


Leave a Reply

Your email address will not be published.