आंगन के पार द्वार खुले / अज्ञेय


आंगन के पार द्वार खुले / अज्ञेय
आंगन के पार
द्वार खुले
द्वार के पार आंगन
भवन के ओर-छोर
सभी मिले–
उन्हीं में कहीं खो गया भवन :
कौन द्वारी
कौन आगारी, न जाने,
पर द्वार के प्रतिहारी को
भीतर के देवता ने
किया बार-बार पा-लागन।


Leave a Reply

Your email address will not be published.