बैठी मँच मानिक को फेरत रई को / अज्ञात कवि (रीतिकाल)


बैठी मँच मानिक को फेरत रई को / अज्ञात कवि (रीतिकाल)
बैठी मँच मानिक को फेरत रई को ,
औध माधुरी की मूरति सी सूरति सनेह की ।
सावन सुहावन को गावन सखीन ,
साथ तैसेई सोहाई आई छटा घटा मेघ की ।
ता समै बजाई कान्ह बँशी तान आई ,
कान सुधि सी हेंरानी मैन वान वेह की ।
दूध की न दही की न माखन मही हू की ,
न कुल की कहीँ की नहिँ देह की न गेह की ।

रीतिकाल के किन्हीं अज्ञात कवि का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.