कँज से चरण देव गढ़ी से गुलफ शुभ / अज्ञात कवि (रीतिकाल)

कँज से चरण देव गढ़ी से गुलफ शुभ / अज्ञात कवि (रीतिकाल)
कँज से चरण देव गढ़ी से गुलफ शुभ ,
कदली से जँघ कटि सिँघ पँहुचत है ।
नाभि है गँभीर व्याल रोमावली कुँभ कुच ,
भुज ग्रीव भाय कैसी ठोढ़ी बिलसत है ।
मुख चँद बिम्बाधर चौका चारु सुक नाक ,
मीन नैन भौँहन बँकाई अधिकत है ।
भाल आधो बिधु भाग करन अमृत कूप ,
बेनी पिक बैनीजू की भूमि परसत है ।

रीतिकाल के किन्हीं अज्ञात कवि का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *