यही इक जुर्म है ऐ मेरे हमदम / अंबर खरबंदा


यही इक जुर्म है ऐ मेरे हमदम / अंबर खरबंदा
यही इक जुर्म है ऐ मेरे हमदम
के मैं खुशबू को खुशबू बोलता हूँ
तेरी आँखों को देखा था किसी दिन
उसी दिन से मैं उर्दू बोलता हूँ


Leave a Reply

Your email address will not be published.