दिखा नही मेले में मुझको / अंकित काव्यांश


दिखा नही मेले में मुझको / अंकित काव्यांश
ऐसा कुछ भी
दिखा नही मेले में मुझको
बहुत समय तक जिसके पास ठहर जाऊँ मैं।

रंग बिरंगे दृश्य चतुर्दिक् पाँव पसारे
मुझको बाँहों में भर लेने को इच्छुक थे।
मूल्य गिरा सकने की कला अगर होती तो
सुविधाओं के ठाटबाट मेरे सम्मुख थे।

तोल-मोल में
माहिर व्यापारी थे सारे
सोचा ख़ाली हाथ लिए ही घर जाऊँ मैं।

रामकथा का मंचन करती हुई मण्डली
दूर गोलबंदी करने में जुटा मदारी।
मुझे आगमन से लेकर प्रस्थान बिंदु तक
या तो अभिनय दिखा, दिखी या फिर लाचारी।

करतब जादू
खेल-तमाशा देख लिया सब
खड़ा भीड़ में उलझन लिए, किधर जाऊँ मैं!

जाते जाते सोचा चलो पूछ लेता हूँ
शायद कोई हो जो उससे मिलकर आया।
चकाचौंध में डूबा हुआ एक भी मानुष
अक्षय आकर्षण का पता नहीं दे पाया।

अपनी पूँजी
भर का झूल चुका हूँ झूला
ऊब गया हूँ, मन कर रहा उतर जाऊँ मैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published.